மூத்திரம் பெய்தா அணைகளை நிரப்ப முடியும் – இப்படி நக்கலாக, கேவலமாகப் பேசிய துணை முதலமைச்சர்!

மூத்திரம் பெய்தா அணைகளை நிரப்ப முடியும் – இப்படி நக்கலாக, கேவலமாகப் பேசிய துணை முதலமைச்சர்!

Ajit kumar urination comment, 2013-Tamil

திராவிடப் பேச்சாளர்களை மிஞ்சும் இந்தி பேச்சாளர்கள்: முன்பெல்லாம் (1950-60களில்) திராவிடத்துவப் பேச்சாளிகள் தாம் அசிங்கமாக, ஆபாசமாக, கேவலமாகப் பேசுவார்கள் என்பது, காதால் கேட்ட உண்மைகள்[1]. நடுஇரவு ஆக, ஆக, அவர்களின் பாஷை மாறும், குரல் மாறும், பொருள் மாறும்,……… திகவினரோ அதனையும் மிஞ்சுபவர்கள் (இப்பொழுது கொஞ்சம் குறைந்துள்ளது)[2] – அவர்கள் பேசும்போது, பெண்கள் காதுகளைப் பொத்திக் கொண்டு, வேக-வேகமாக சென்றுவிடுவர்.போக மற்றவர், “சாவுகிராக்கி…………என்னா பேசுது பாரு…………..நாசமா ……”, என்று தனக்கேயுரிய மெட்ராஸ் பாஷையில் சாபமிட்டுக் கொண்டு போவர்[3]. சமீபகாலத்தில், வடவிந்திய அரசியல்வாதிகளுக்கும் அத்தகைய நோய் பீடித்துள்ளது போல தோன்றுகிறது.

Ajit kumar urination comment, 2013-TOI

வழக்கம் போல, தமிழ் ஊடகங்கள் அடக்கி வாசிக்கும் மர்மம் என்னவென்று தெரியவில்லை. ஆதலால், அஜித் பவார் இந்தியில் சொன்னதை குறிப்பிட்டு, என்ன பேசியுள்ளார் என்று எடுத்துக் காட்டப்படுகிறது:

बांधों में पानी नहीं है तो क्या पेशाब करें: पवारअब यह साफ हो गया है कि हाल के दिनों में नेताओं द्वारा दिए जाने वाले बेशर्म बयानों का पानी सिर के ऊपर से गुजर रहा है।महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार ने रविवार को मराठवाड़ा में सूखे की मार झेल रहे किसानों की बेबसी का पहले तो मजाक उड़ाया और जब बवाल मचा तो माफी मांग ली।वह शनिवार की रात को पुणे जिले की इंदापुर तहसील के एक गांव में सभा को संबोधित कर रहे थे।
बेशर्म बयान: मुंबई के आजाद मैदान में सूखा प्रभावित एक किसान की भूख हड़ताल पर तंज कसते हुए एनसीपी के राष्ट्रीय नेता शरद पवार के भतीजे अजीत पवार ने बेशर्मी की सारी हदें लांघते हुए कहा, ‘वह 55 दिनों से उपवास पर है।अब अगर बांध में पानी नहीं, तो कैसे छोड़ा जा सकता है? क्या हम वहां जाकर पेशाब करें? अब अगर पीने को ही पानी नहीं है तो पेशाब भी कैसे होगी?’जनसभा में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री की हंसी-ठिठोली यहीं नहीं रुकी। उन्होंने गांव में बिजली न होने पर भी तंज कसा और कहा[4], ‘मैं देख रहा हूं कि जब से यहां रात को बिजली नहीं रहती है, ज्यादा बच्चे पैदा होने लगे हैं।

लोगों के पास कोई और काम नहीं बचा है।’ पवार की इन बातों ने महाराष्ट्र की राजनीति को गरमा दिया है।

निंदा: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और भाजपा नेता विनोद तावड़े ने अजीत पवार की बातों की निंदा करते हुए इन्हें शर्मनाक बताया है। ठाकरे ने कहा कि शरद पवार खुद को किसान का बेटा कहते हैं और उनका भतीजा किसानों की हंसी उड़ा रहा है।

उल्लेखनीय है कि सूखाग्रस्त सोलापुर जिले का एक किसान भैया देशमुख आजाद मैदान में इन दिनों उपवास पर बैठा है।

पवार के बयान के बाद देशमुख ने कहा कि यह बात उनके पद के अनुरूप नहीं है। महाराष्ट्र इन दिनों 1972 के बाद का सबसे भीषण सूखा झेल रहा है।

Ajit kumar urination comment, 2013

अब अगर बांध में पानी नहीं, तो कैसे छोड़ा जा सकता है? क्या हम वहां जाकर पेशाब करें? अब अगर पीने को ही पानी नहीं है तो पेशाब भी कैसे होगी?[5]: இப்பொழுது அணைகளில் நீர் இல்லை என்றால், நான் என்ன செய்யமுடியும்? நான் என்ன அங்குச் சென்று மூத்திரம் பெய்து நிரப்பவா முடியும்? இப்பொழுது குடிப்பதற்கே தண்ணீர் இல்லை எனும்போது, மூத்திரம் எப்படி வரும்?”, என்று அவர் பேசியிருக்கிறார். மகாராஷ்டிர மாநில அணைகளில் நீர் இல்லை. அங்கே கடும் தண்ணீர் தட்டுப்பாடு நிலவுகிறது. மஹாராஷ்டிராவில் 15க்கும் மேற்பட்ட மாவட்டங்களில் வறட்சி நிலவுகிறது. இந்த நிலையில் அணையில் இருந்து தண்ணீர் திறந்துவிடக்கோரி சோலாப்பூரை சேர்ந்த விவசாயி ஒருவர் கடந்த 55 நாட்களாக உண்ணாவிரதம் இருந்து வருகிறார்[6].  இரண்டாவது மாதமாகத் தொடர்ந்துள்ள அவரது போராட்டம் குறித்தும், அணைகளில் நீர் இல்லாத நிலை குறித்தும் கருத்து கூறிய மகாராஷ்டிர துணை முதல்வர் அஜீத் பவார், “அணைகளில் நீர் இல்லை.  தண்ணீர் இல்லாதபோது எங்கிருந்து திறந்து விட முடியும்? நாம் எங்கிருந்து தண்ணீர் பெற முடியும்? அணையில் நாம் என்ன சிறுநீர் கழிக்கவா முடியும்? குடிக்க போதுமான தண்ணீர் இல்லாமல் என்னால் எளிதாக சிறுநீர்கூடக் கழிக்க முடியவில்லை”, என்று கருத்து கூறியிருந்தார்[7].

Ajit Pawar urination comment, 2013-cartoon

ராத்திரி மின்சாரம் இல்லை, அதனால் குழந்தைகள் அதிகமாக பிறக்கின்றன: துணை முதலமைச்சர் இதற்கும்  மேலாக பேசியுள்ளார். जनसभा में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री की हंसी-ठिठोली यहीं नहीं रुकी। उन्होंने गांव में बिजली न होने पर भी तंज कसा और कहा[8], ‘मैं देख रहा हूं कि जब से यहां रात को बिजली नहीं रहती है, ज्यादा बच्चे पैदा होने लगे हैं। लोगों के पास कोई और काम नहीं बचा है।’ அதாவது “நான் இப்பொழுது என்ன பார்க்கிறேன் என்றால், கிராமங்களில் மின்சாரம் கூட இல்லை, ஆனால் என்ன நடக்கிறது? அதிகமாக குழந்தைகள் பிறந்து கொண்டிருக்கின்றன. மக்களுக்கு (கைகளில்) வேறு எந்த வேலையும் இல்லை, குழந்தைகள் தாம் உள்ளன”. இப்படியெல்லாம் மந்திரிகள் பேசுகிறார்கள் என்றால், அவர்களது மனப்பாங்கு எப்படியுள்ளது என்பதனை அரிந்து கொள்ளலாம்.

Ajit Pawar urination comment, 2013-protest

வழக்கம் போல எதிர்கட்சிகளின் எதிர்ப்பு: அஜித் பவாரின் இந்த பேச்சு பெரும் சர்ச்சையை உருவாக்கி இருக்கிறது. மகாராஷ்டிரா சட்டப்பேரவை நேற்று காலையில் கூடியதும் பா.ஜ., சிவசேனா உறுப்பினர்கள் அஜித் பவாரின் பேச்சுக்கு கடும் கண்டனம் தெரிவித்தனர். கோஷம் எழுப்பியபடி அவையின் மையப்பகுதிக்கு சென்றனர். இதைத் தொடர்ந்து பேரவை ஒத்திவைக்கப்பட்டது.  தேசியவாத காங்கிரஸ் கட்சியைச் சேர்ந்த இவர், அக்கட்சித் தலைவரும், மத்திய அமைச்சருமான சரத்பவாரின் உறவினர். அஜீத் பவாரின் இந்தக் கருத்துக்கு பா.ஜ.க, கடும் கண்டனம் தெரிவித்தது. “அவர் உடனடியாக பதவி விலக வேண்டும். நாகரிகம் இல்லாமல் ஒரு முக்கியப் பொறுப்பில் உள்ளவர் இவ்வாறு கருத்துக்கள் கூறுவது தவறு. இது மகாராஷ்டிர அரசியலில் மிகவும் கீழ்த் தரமானதாக உள்ளது” என்று அறிக்கையில் கூறியுள்ளது. வசேனா கட்சியும், அஜித் பவார் பதவி விலக வேண்டும். அவருக்கு தண்டனை வழங்க வேண்டும். இந்த விவகாரத்தை நாடாளுமன்றத்திலும், சட்டமன்றத்திலும் எழுப்புவோம் எனக் கூறியது.

Ajit Pawar urination comment, 2013-111

அஜித் பவார் மன்னிப்பு கேட்டார்: விஷயம் பெரிதாகிரது என்றால், அரசியல்வாதிகள் என்ன சும்மாவா இருப்பார்கள்? கால்களில் விழவும் தயாராக இருப்பார்களே? போதா குறைக்கு, தனக்கு எங்கே வம்பு வந்து விடப்போகிறாதே என்று, மாமா சரத் பவார் நன்றாக டோஷ் விட்டுள்ளார். இந்நிலையில், தனது கருத்து யாருடைய மனதையாவது புண்படுத்தியிருந்தால், அதற்காக தான் மன்னிப்பு கேட்டுக் கொள்வதாக அஜீத் பவார் கூறினார்[9]. ஏற்கெனெவே தண்ணீர் தட்டுப்பாடு உள்ளபோது, சரத் பவார் கிரிக்கெட் தமாஷாவிற்கு மஹாராஷ்டிர அரசு மலிவு விலையில் தண்ணீர் விநியோகித்துள்ளதையும் மக்கள் எதிர்த்துள்ளனர். ஒரு லிட்டர் ரூ.10/- என்று விற்கும் போது, வ்நெறும் ஆறு பைசா என்ற வீதத்தில் பவாருக்கு விற்றுள்ளனர்.

வேதபிரகாஷ்

09-04-2013

Ajit Pawar urination comment, 2013-11


[1] இதில் பெரியார், அண்ணாதுரை, கருணாநிதி என்று யாரும் விதிவிலக்கல்ல. நாத்திரியில், இவர்கள் பேச்சைக் கேட்டுள்ளவர்களுக்கு உண்மை தெரியும்.

[2] அப்பேச்சுகளை எழுதமுடியாது. இருந்தாலும் தமிழில் பேசி, பற்றவர்களை ஓடவைத்திருக்கிறார்கள், குறிப்பாக பெண்களின் வசைவுகளுக்கு, சாபங்களுக்குட் பட்டிருக்கிறார்கள்.

[3] இதில் பெரும்பாலும் அவர்களது உறவினர்களே அடங்குவர், குறிப்பாக மனைவி, சகோதரி என்று…………….மற்ரவர்களைப் பற்றிக் கேட்க வேண்டாம். சாபமே இட்டுள்ளனர். ஆனால், துடைத்து விட்டுக் கொண்டனர்.

குறிச்சொற்கள்: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

6 பதில்கள் to “மூத்திரம் பெய்தா அணைகளை நிரப்ப முடியும் – இப்படி நக்கலாக, கேவலமாகப் பேசிய துணை முதலமைச்சர்!”

  1. vedaprakash Says:

    ‘पेशाब’ वाले बयान पर पवार ने मांगी माफी Posted by: Ankur Sharma Updated: Monday, April 8, 2013, 7:09 [IST]
    http://hindi.oneindia.in/news/2013/04/08/india-ajit-pawar-apologises-remark-no-water-we-urinate-in-it-237136.html

    मुंबई। एक बार फिर से कृषि मंत्री शरद पवार के भतीजे अजीत पवार अपने एक बयान के कारण चर्चा में हैं। उन्होंने एक सभा के दौरान एक विवादित बयान दिया है। पुणे के इंदापुर गांव में एक सभा को संबोधित करते हुए अजीत पवार ने कहा कि एक आदमी 55 दिन से बांध से पानी छोडऩे की जिद किये बैठा है, भूख हड़ताल पर है, क्या यह सब करके उसे पानी मिल जायेगा। जब पानी है ही नहीं तो उसे मिलेगा क्या, क्या अब पेशाब करना शुरू दें.. वैसे बिना पानी के तो पेशाब भी नहीं होती है। यही नहीं अजीत पवार की जुबान यहां भी नहीं रूकी उन्होंने बिजली की लोड शेडिंग के लिए भी कहा कि आज कल रात में दो बजे बिजली कट जाती है, जिसके कारण बच्चे ज्यादा पैदा हो रहे हैं, जब लोगों के पास कोई काम ही नहीं है तो यही करेंगे ना। हालांकि किसानों पर और सूखा ग्रस्त लोगों पर पवार की टिप्पणी पर भारी घमासान मच गया है। हालत को बिगड़ते देखकर पवार ने यूं टर्न लिया और लोगों से माफी मांग ली है। पवार ने कहा कि इंदापुर गांव में एक सभा के दौरान मेरे द्वारा की गई मेरी टिप्पणियां सूखा प्रभावित लोगों पर केंद्रित नहीं थी। यदि मैंने राज्य के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है तो इसका मुझे दुख है इसलिए मैं माफी मांगता हूं।

    Read more at: http://hindi.oneindia.in/news/2013/04/08/india-ajit-pawar-apologises-remark-no-water-we-urinate-in-it-237136.html

  2. vedaprakash Says:

    बवाल के बाद बयान पर अजित ने मांगी माफी
    बीएस संवाददाता/भाषा / मुंबई April 08, 2013
    http://hindi.business-standard.com/hin/storypage.php?autono=71166

    आखिकार भारी शोर-शराबे के बाद महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने पानी की कमी और बिजली कटौती के बारे में अपनी विवादास्पद टिप्पणी के लिए आज माफी मांग ली। पवार ने माना कि उन्होंने लोगों और विधायिका की भावनाओं को आहत किया है। पवार के आपत्तिजनक बयान पर सभी तरफ से तल्ख प्रतिक्रियाएं आई थीं।

    निचले सदन में भारी हंगामे और दो बार के स्थगन के बाद निजी स्पष्टीकरण देते हुए पवार ने स्वीकार किया कि उन्हें सतर्कता से अपने शब्दों का इस्तेमाल करना चाहिए था। उन्होंने अपनी टिप्पणी पर सफाई देते हुए कहा, ‘शनिवार को मेरी टिप्पणी सूखा प्रभावित लोगों के प्रति नहीं थी और मेरी मंशा किसी की भावनाओं को आहत करने की नहीं थी।Ó दिन भर के लिए स्थगित होने से पहले राज्य विधानसभा में कार्य में पांच बार बाधा आई।

    महाराष्ट्र के ऊर्जा एवं वित्त मंत्री पवार ने कहा कि राज्य सरकार ने सूखा राहत प्रभावों को शीर्ष प्राथमिकता दी है। सरकार का रुख इस साल के बजटीय प्रावधानों और विधायिका में हुई चर्चाओं में स्पष्ट कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सूखा प्रभावित इलाकों में पानी, पशुओं का चारा मुहैया कराने और छात्रों की फीस माफ करने के लिए प्रतिबद्ध है। ‘मुझे उम्मीद है कि मेरी टिप्पणी से सूखा राहत उपाय प्रभावित नहीं होंगे। राहत कार्य तेजी से चलते रहेंगे।Ó

    पवार जब अपना बयान दे रहे थे, उस दौरान सदन में विपक्ष की ओर से नारेबाजी जारी रही। उनके बयान के बाद विधानसभा अध्यक्ष दिलीप वाल्से पाटिल ने सदन को 30 मिनट के लिए स्थगित कर दिया। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने पुणे में इंद्रपुर तहसील के तहत आने वाले एक अंदरूनी गांव में शनिवार को यह टिप्पणी की थी, ‘यदि बांध में पानी नहीं है तो क्या हम उसमें पेशाब कर दें।Ó इस टिप्पणी के बाद विवाद छिड़ गया कि उन्होंने भीषण सूखे का सामना कर रहे किसानों का मजाक उड़ाया है।
    पवार का बिजली कटौती के संबंध में दिया गया एक अन्य बयान भी मजाक का विषय बन गया है। उन्होंने कहा था, ‘मैंने महसूस किया है कि रात में बिजली चले जाने के बाद ज्यादा बच्चे पैदा हो रहे हैं। उसके बाद कोई और काम नहीं बचा रहता है।Ó इससे पूर्व विपक्ष ने पवार के बयानों को लेकर भारी हंगामा किया जिसके चलते विधानसभा अध्यक्ष को दो बार बैठक स्थगित करनी पड़ी।

    पवार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए भाजपा के सुधीर मुगंतीवार, देवेंद्र फडऩवीस, नाना पटोले तथा शिवसेना के एकनाथ शिंदे आसन के समक्ष आ गए। भाजपा के गिरीश बापट ने कहा कि पवार ने जो कहा है उससे सूखा प्रभावित लोगों का अपमान हुआ है। बापट ने कहा कि उन्हें सदन में यह मुद्दा उठाने की अनुमति मिलनी चाहिए। इस पर अध्यक्ष ने कहा कि प्रश्नकाल के बाद इस पर चर्चा हो सकती है।

  3. vedaprakash Says:

    ‘नदीं में पानी नहीं तो क्या पेशाब करें’ टिप्पणी पर अजीत ने दी सफाई
    2013-04-08 PM 04:19:07|
    http://www.punjabkesari.in/news/-%E0%A4%A8%E0%A4%A6%E0%A5%80%E0%A4%82-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A5%80-%E0%A4%A8%E0%A4%B9%E0%A5%80%E0%A4%82-%E0%A4%A4%E0%A5%8B-%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%AA%E0%A5%87%E0%A4%B6%E0%A4%BE%E0%A4%AC-%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%82–%E0%A4%9F%E0%A4%BF%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%AA%E0%A4%A3%E0%A5%80-%E0%A4%AA%E0%A4%B0-%E0%A4%85%E0%A4%9C%E0%A5%80%E0%A4%A4-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%97%E0%A5%80-%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%AB%E0%A5%80-123315

    मुंबई: महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार ने पानी की कमी और बिजली कटौती के बारे में अपनी विवादास्पद टिप्पणी के लिए आज माफी मांग ली। पवार ने कहा कि उन्होंने लोगों और विधायिका की भावनाओं को आहत किया है।

    निचले सदन में भारी हंगामे और दो बार के स्थगन के बाद निजी स्पष्टीकरण देते हुए पवार ने स्वीकार किया कि उन्हें सतर्कता से अपने शब्दों का इस्तेमाल करना चाहिए था। उन्होंने सफाई दी, ‘‘शनिवार को मेरी टिप्पणी सूखा प्रभावित लोगों के प्रति नहीं थी और मेरी मंशा किसी की भावनाओं को आहत करने की नहीं थी।’’ महाराष्ट्र के उर्जा एवं वित्त मंत्री पवार ने कहा कि राज्य सरकार ने सूखा राहत प्रभावों को शीर्ष प्राथमिकता दी है।

    सरकार का रूख इस साल के बजटीय प्रावधानों और विधायिका में हुई चर्चाओं में स्पष्ट कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सूखा प्रभावित इलाकों में पानी, पशुओं का चारा मुहैया कराने और छात्रों की फीस माफ करने के लिए प्रतिबद्ध है। ‘‘मुझे उम्मीद है कि मेरी टिप्पणी से सूखा राहत उपाय प्रभावित नहीं होंगे। राहत कार्य तेजी से चलते रहेंगे।’’

    पवार जब अपना बयान दे रहे थे, उस दौरान सदन में विपक्ष की ओर से नारेबाजी जारी रही। उनके बयान के बाद विधानसभा अध्यक्ष दिलीप वाल्से पाटिल ने सदन को 30 मिनट के लिए स्थगित कर दिया। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने पुणे में इंद्रपुर तहसील के तहत आने वाले एक अंदरूनी गांव में शनिवार को यह टिप्पणी की थी, ‘‘यदि बांध में पानी नहीं है तो क्या हम उसमें पेशाब कर दें।’’ इस टिप्पणी के बाद विवाद छिड़ गया कि उन्होंने भीषण सूखे का सामना कर रहे किसानों का मजाक उड़ाया है।

  4. vedaprakash Says:

    महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजीत पवार का बयान, बिजली गुल होने से पैदा होते हैं ज्यादा बच्चे
    http://www.samaylive.com/regional-news-in-hindi/maharashtra-regional-news/203536/power-cut-at-night-provokes-sex-resulting-more-children-ajit-paw.html

    ‘बांधों में पानी नहीं है तो क्या पेशाब कर दें’ (फाइल फोटो)

    महाराष्ट्र के उप मुख्य़मंत्री अजीत पवार ने गैर जिम्मेदाराना बयान दिया है. उनके मुताबिक रात में बिजली गुल होने के कारण लोग ज्यादा बच्चे पैदा कर रहे हैं.
    पानी की मांग को लेकर करीब दो महीने से अनशन पर बैठे एक किसान का मजाक उड़ाते हुए अजीत ने कहा कि बांध में पानी नहीं है तो क्या पेशाब कर दें.
    अजित पवार ने कहा, ‘सोलापुर का एक किसान 55 दिनों से अनशन पर है. वह बांधों से अपने खेत के लिए पानी छोड़े जाने की मांग कर रहा है. बांधों में पानी नहीं है. हमें क्या करना चाहिए? क्या हमें बांधों में पेशाब कर देना चाहिए?
    यही नहीं उन्होंने बढ़ती आबादी के लिए बिजली गुल होने को जिम्मेदार ठहराया. उनका मानना है कि रात को बिजली ज्यादा कटती है और इसके कारण लोग ज्यादा बच्चे पैदा कर रहे हैं.
    महाराष्ट्र जैसे राज्य का डिप्टी सीएम होते हुए इस तरह का बयान देकर वो विवादों में फंस गए हैं.
    हालांकि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने उनकी ओर से माफी मांगी है.
    लोग हैं सूखे से बेहाल
    गौरतलब है कि एक किसान करीब दो महीनों से अपने सूखे खेत में सिंचाई के लिए डैम में पानी छोड़ने की मांग को लेकर अनशन पर बैठा हुआ है.
    महाराष्ट्र में लोग सूखे से परेशान हैं लेकिन नेताओं पर इसका असर नहीं दिख रहा है. नेता सूखे का भी मज़ाक उड़ा रहे हैं.
    हालांकि बयान पर बढ़ते विरोध को देखते हुए अजित पवार ने रविवार शाम को अपने विवादास्पद बयान पर माफी मांग ली.
    पवार ने कहा कि अगर उनके बयान से किसी की भावनाएं आहत हुई हैं तो वे इसके लिए माफी मांगते हैं. उनका बयान सूखे से प्रभावित लोगों को लक्ष्य करके नहीं दिया गया था.
    बीजेपी ने अजित के बयान पर आपत्ति जताई है. बीजेपी के प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि इस मामले में शरद पवार को दखल देना चाहिए और ऐसे बयान पर सीएम को स्पष्टीकरण देना चाहिए.
    राज्य बीजेपी नेता शाइना एनसी का कहना है कि अगर कोई जानकारी न होने पर बयान दे तो अलग बात है. लेकिन ऐसी मुश्किल घड़ी में जनता के साथ खड़े होने की बजाए ऐसा अश्लील और भद्दा बयान देना गलत है.
    शिव सेना नेता उद्दव ठाकरे ने भी अजित पवार के इस बयान की कड़ी आलोचना की है और अजित को कैबिनेट से तुरंत बर्खास्त करने की मांग की है. अगर शरद पवार में थोड़ी भी शर्म बची है तो उन्हें तुरंत बाहर किया जाना चाहिए.

  5. மூத்திர அமைச்சர் மாநிலத்தில் நடக்கும் தண்ணீர் ஊழல் – குடிக்க நீரில்லை, ஆனால் ஐபிஎல், சினிமா, தொ Says:

    […] [7] https://socialterrorism.wordpress.com/2013/04/09/can-i-urinate-and-fill-the-dams-ajit-pawar-speech/ […]

  6. ஒண்ணுக்கு போதலும், உண்ணாவிரதம் இருத்தலும் – கருணாநிதியை மிஞ்சிய அஜித் பவார்! | சமூகத் தீவிரவாத Says:

    […] [1] https://socialterrorism.wordpress.com/2013/04/09/can-i-urinate-and-fill-the-dams-ajit-pawar-speech/ […]

மறுமொழியொன்றை இடுங்கள்

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  மாற்று )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  மாற்று )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  மாற்று )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  மாற்று )

Connecting to %s


%d bloggers like this: